logo

Whatsapp Number: +91-90416-06444

तुम बैचैन हो, हम बेक़रार है

तेरे पास आने से हम लाचार है

नफरत सी हो जाएगी तुम्हे भी इस दुनिया से

मोहब्बत किसी से तुम बेसुमार कर के देखना

अरे कितना झुठ बोलते हो तुम

खुश हो और कह रहे हो मोहब्बत भी की है

मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है

बोला साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है

बेटियों के जन्म पर मातम मनाने वालों...
.
आज उस घर में जाकर देखो जहाँ बेटियाँ
नही है ।।

जब भी देखता हुं हसते खिलखिलाते चेह्ररे लोगों के

दुआ करता हुं इन्हे कभी मोहब्बत ना हो

वक़्त की रफ़्तार कभी बदलती नहीं

बस ज़िन्दगी की रफ़्तार बदल जाती है

नजर अंदाज करने की वजह कुछ तो बताते तुम

अब मैं कहा कहा खुद की बुराइया ढूँढू

तुम किसी और से मालूम तो करके देखो

हम किसी ओर के कितने है और तुम्हारे कितने

माना कि बहुत ख़ास हूँ मैं कुछ लोगो के लिए

लेकिन चन्द लम्हों से ज्यादा कोई ना रोयेगा मेरे गुजर जाने के बाद

खुदा ने सब्र करने की तौफ़ीक़ हमें बख्शी है

अरे जी भर के तड़पाओ शिकायत कौन करता है

बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में

कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में

किस गुनाह की दिलवर दे रहे हो मुझे सजा

दिल तोड़ के हमसे रूठ के बैठे हो क्यूं हो तुम मुझसे खफा

चले आती है कमरे में दबे पाँव ही हर दफ़े

तुम्हारी यादों को दरवाज़ा खटखटाने की भी तमीज़ नहीं

कुछ ऐसा अंदाज था उनकी हर अदा में,

के तस्वीर भी देखूँ उनकी तो खुशी तैर
जाती है चेहरे पे ..❗❗

मुझे तो पहले से ही मैगी पर शक था

एक तो फीमेल औऱ दो मिनट में तैयार कुछ गड़बड़ ज़रूर है

सब कुछ लूटा दिया तेरी मुहब्बत में

कमबख्त आसु ही ऐसे है की जो खत्म नही होते है

मैं ना भी रहा तो मेरी रूह वफ़ा करेगी तुझसे

ये मत समझना कि तुम्हे चाहा था बस ज़िंदा रहने तक

लफ्जो में कुछ यू उलझा हु में

कहीं कंही से हर चेहरा तुम जैसा लगता है

फ़क्र ये के तुम मेरे हो

फ़िक्र ये पता नही कब तक

Load More
Top