logo

Whatsapp Number: +91-90416-06444

वेसे तो मैं ठीक हु तेरे बिछड जाने के बाद भी

बस दिल का ही डर है कही धडकना ना छोड दे

महोब्बत रहे या ना रहे

स्कुल की बेन्च पर तेरा नाम आज भी है

लाश पता नही किस बदकिस्मत की थी मगर

क़ातिल के पैरो के निशान बड़े हसीन थे

वक़्त की रफ़्तार कभी बदलती नहीं

बस ज़िन्दगी की रफ़्तार बदल जाती है

Na jaane kiske muqaddar mein wo likhi hogi

Magar ye sach hai k umeedwaar main bhi hoon

मुहब्बत के साए में आज़ाद रह कर

कोई हंस रहा है कोई रो रहा है

Hazaar Chehron May Uski Mushahbatain Milien Mjhko

Par Dil Ki Zid Thi Agr Wo Nahin To Us Jaisa Bhi Nahin.

ये सोच कर तेरी महफ़िल में चला आया हूँ

तेरी सोहबत में रहूँगा तो संवर जाऊंगा

वो भी एक ना एक दिन किसी से बिछड़ जाएगी

तब उसको एहसास होगा की में कितना जरुरी था उसकी ज़िंदगी के लिये

Silsila khayalon ka toot ta nahi goya

Zehan ke darichon mein khwab ka basera hai

रुठुंगा अगर तुजसे तो इस कदर रुठुंगा की

ये तेरीे आँखे मेरी एक झलक को तरसेंगी

सुना है आज उस की आँखों मे आसु आ गये

वो बच्चो को सिखा रही थी की मोहब्बत ऐसे लिखते है

Uryani o fahashi ko jo kehty hyn taraq qi . .

Khadim hyn vo uorap k muslman ni hyn

वो भी जिन्दा है मै भी जिन्दा हूँ

कत्ल तो सिर्फ इश्क का हुआ है

Bolu agar jhoot tu mar jayega zameer

keh doo n agar main sach to mujhe maar denge log

मै मुहब्बत की रहो से अनजान हु

क्या करू क्या करू मै परेशान हु

मैंने दिल के दरवाजे पर लिखा अंदर आना सख्त मना है

प्यार हँसता हुआ आया और बड़ी मासूमियत से बोला मुझे माफ करना मैं तो अन्धा हूँ

बड़ी सादगी से उसने कह दिया रात को सो भी लिया कर

रातों को जागने से मोहब्बत लौट नहीं आती

er kasz

मुझे तो इन्साफ चाहिए बस

दिल मेरा हैं तो मालिक तुम केसे

मुझे उन आंखों मे कभी आंसु अच्छे नही लगते

जीन आंखों मे मै अकसर खुद के लिये प्यार देखता हुं

Load More
Top