logo

Whatsapp Number: +91-90416-06444

मेरी लिखी किताब मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगी

इसे पढा करो मोहब्बत सीख जाओगे

er kasz

सब कुछ मिल जाता है इस दुनिया मैं फ़क़त...

वह शख्स नहीं मिलता जिस से मोहब्बत हो...

कैसे भुला दूँ उसको मैं..
मौत इंसानों को आती है यादो को नहीं...

सूरत नहीं देखी तेरी अरसे से बस वो आखिरी बार का मुस्कुरा के मिलना

आज भी जीने की वजह है मेरी

मत फेर निगाँहे कम्बख़त हमें देख कर

खुद भी रो पड़ेगा हमरे प्यार की तौहीन होती देख कर

er kasz

पूँछा जो मैंने उससे मुझको भुला दिया कैसे
चुटकी बजा के वो बोला- ऐसे ऐसे ऐसे...

मोहब्बत छोड के हर एक जुर्म कर लेना

वरना तुम भी मुसाफिर बन जाओगे हमारी तरह इन तन्हा रातों के

er kasz

कितनी खूबसूरत हो जाती है उस वक्त दुनिया

जब कोई अपना कहता है तुम याद आ रहे हो

er kasz

हमने तो आंसूओं की रो रो झड़ी लगाई

उस बेवफा ने घुमकर छाता लगा लिया

मुमकिन है कि तेरे बाद भी आती होंगी बहारें
गुलशन में तेरे बाद कभी जा कर नहीं देखा

Na jaane kiske muqaddar mein wo likhi hogi

Magar ye sach hai k umeedwaar main bhi hoon

Bhid me bhi hum tujhko pehchan lete hai

Or Tum hamare samne akar bhi hume Aanjaan smjhkar muh moad laite ho

मैने किस्मत की लकीरों पर यकीन करना छोड़ दिया है..!!

जब इंसान बदल सकते है तो लकीरे क्यों नहीं ....!

खुल जाता है उनकी यादो का बाजार हर शाम

फिर अपनी रात उसी रौनक मेँ गुजर जाती है

er kasz

मुझे ढूंढने की कोशिश न किया कर पगली

तूने रास्ता बदला मैंने मंज़िल ही बदल दी

बड़ा शौक था उसे मेरा आशियाना देखने का

जब देखी मेरी गरीबी रास्ता बदल लिया

कुसूर नही इसमे कुछ भी उनका

हमारी चाहत ही इतनी थी के उन्हे गुरुर आ गया.

कितने आसान से लफ़्ज़ों में कह गया वो..

के बस दिल ही तोडा है कोनसी जान ली है..

Shukar hai uska jo apni yaden chor gae

jinda lash ko jine ka bhana de gae

ना जाने क्यों मगरूर हैं इस झुठी दुनिया के झूठे लोग,

वफ़ाएं कर नहीं सकते वादे हज़ार करते हैं .

Load More
Top