logo

Whatsapp Number: +91-90416-06444

आज रात मैंने अपने दिल से उसका रिश्ता पूछा
कम्बख्त कहता है जितना मैं उसका हूॅ उतना तेरा भी नही ..

Jab Jab Aya uska NAAM mere Dard k Fasaane mein

Tab tab Maine ghazal bna kr Adhuri chhor di

er kasz

मेरी पागल सी मोहब्बत तुम्हे बहुत याद आएगी

जब हँसाने वाले कम और रुलाने वाले ज्यादा होंगे

मेरे सारे जज्बात बस शायरी में सिमट के रह गए,

तुझे मालूम ही नही हम तुझसे क्या क्या कह गए.

er kasz!

अपनी जवानी में और रखा ही क्या है कुछ तस्वीरें यार

की बाकी बोतलें शराब की

बहुत है मेरे मरने पर रोने वाले मगर
तलाश उसकी है जो मेरे रोने पर मरने की बात कह दे।

Agar dushmani krni hai to smne se karna

Aye Dost kyuki Piche se to kayar war karte hai

er kasz

तुम क्या जानो हम अपने आप में कितने अकेले हैं .

पूछो उन रातों से जो रोज़ कहती हैं खुदा के लिए आज तो सो जाओ..!!

अजीब सी बस्ती में ठिकाना है मेरा

जहाँ लोग मिलते कम झांकते ज़्यादा है

er kasz

कुछ तो बेवफाई मुझमें भी है...
जिंदा हूँ तेरे बगैर...!!

सुन कर ग़ज़ल मेरी वो अंदाज़ बदल कर बोले

कोई छीनो कलम इससे ये तो जान ले रहा है

er kasz

Thoda or btao mere barye main mujhe

Sunna ai bahut jantye ho tum mere barye mai

ना करवटे थी, ना बैचेनियाँ थी..

क्या गज़ब की नींद थी मोहब्बत से पहले.

अजीब पैमाना है यहाँ शायरी की परख का

जिसका जितना दर्द बुरा शायरी उतनी ही अच्छी

उसे अपना कहने की बड़ी तमन्ना थी दिल मे.
इससे पहले बात लबो पर आती वो गैर हो गये...

Vo samjh hi na sake mere dardo ko

Hame lagga unhe dikhta nahi

Shayad unhe padhna Bhi nahi atta

नहीं शिकवा मुझे कुछ तेरी बेवफाई का....

गिला तो तब हो अगर तूने किसी से भी निभायी हो..!!!

तेरी ज़ुल्फ़ों से जुदाई तो नहीं मांगी थी

क़ैद मांगी थी रिहाई तो नहीं मांगी थी

मदहोश होता हूँ तो दुनियाँ को बुरा लगता हूँ

होश रहता है तो दुनियाँ मुझको बुरी लगती है

मेरा वजूद नहीं किसी तलवार और तख़्त ओ ताज का मोहताज

में अपने हुनर और होंठो की हंसी से लोगो के दिल पे राज करता हैं

er kasz

Load More
Top